महिला शिक्षक संघ द्वारा पुरानी पेंशन योजना के पुनः बहाली हेतु शांतिमार्च का आयोजन किया गया

प्रदीप मौर्या क्राइम रिपोर्टर
आज़मगढ़

महिला शिक्षक संघ द्वारा पुरानी पेंशन योजना के पुनः बहाली हेतु शांतिमार्च का आयोजन किया गया

 

 

 

आज़मगढ़। पुरानी पेंशन के पक्ष में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के आह्वन पर गाँधी की जयंती के अवसर पर दिनाँक 2 अक्टूबर 2022 को पुरानी पेंशन बहाली के लिए महिला शिक्षक संघ की जिलाध्यक्ष शिखा मौर्य के नेतृत्व में जनपद के पेंशनविहीन कर्मचारियों द्वारा शांति मार्च निकाला गया।
संगठन की जिलाध्यक्ष शिखा मौर्य ने बताया कि ,उ० प्र० शासन द्वारा अप्रैल 2005 के पश्चात नियुक्त शिक्षक, कर्मचारियों एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन व्यवस्था को समाप्त कर नई पेंशन योजना लागू की गई जो शिक्षक कर्मचारी समाज को स्वीकार नहीं है।
इसी क्रम में जनपद के हजारों शिक्षक /कर्मचारियों द्वारा शांति मार्च समय 12:00 बजे से कलेक्ट्रेट के सामने स्थित अम्बेडकर पार्क से प्रारम्भ होकर रैदोपुर चौराहा स्थिति अहिंसा के पुजारी,युगप्रवर्तक राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के पश्चात समाप्त की गई।
संगठन की वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रतिभा श्रीवास्तव ने कहा कि, राज्य कर्मचारियों, शिक्षकों एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों द्वारा अपना पूरा जीवन प्रदेश के विकास एवं योजना के क्रियान्वयन में अर्पित करने के उपरान्त उन्हें व उनके परिवार को बेसहारा छोड़ना न्याय संगत नहीं है तथा इन्हें भी समाज में सम्मान पूर्वक जीने का हक मिलना चाहिए।
ततपश्चात महिला शिक्षक संघ की टीम द्वारा माननीय मुख्यमंत्री को संबोधित पुरानी पेंशन बहाल करने का मांगपत्र जिलाधिकारी महोदय को दिया गया ।
अनुशासन समिति ने सम्हाली कार्यक्रम की व्यवस्था
महिला शिक्षक संघ की संगठन मंत्री अंजू राय ने अपनी टीम के साथ अनुशासन व्यवस्था बनाये रखी । सीमा ,अमृता ,दीपिका,बेनी शर्मा,कुमुद ,निवेदिता ,मालती ,प्रियंका कुमारी,सोनम ,सुमन,साधना, अलका , नीतू ,रेखा रिजवाना रहीं । पदयात्रा में प्रतिभाग करने वालों में अंशु अस्थाना ,प्रज्ञा राय ,स्नेहलता ,प्रमिला ,सुष्मिता,अलका राय, शालिनी,सिम्पल सिंह जकिया,करुणेश,राकेश,शेषनाथ आदि सम्मलित।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close